5

Dard-E-Tanhai Shayari on Narazgi

किसी से नाराज़गी रखना गलत बात है मगर ज़रा सोचो ये भी तो एक जज़्बात है ज़िन्दगी के बारे में बस इतना जान लो तुम ख़्वाबों से हक़ीक़त की यह मुलाकात है किसी शायर की आँखों में देखो तो पता… Continue Reading

2

Bematlab Ki Chahat Shayari

दर्द भी वही और राहत भी वही, मेरी मुश्किलें और, बुरी आदत भी वही उसे भूलना हर सहर मक़सद है मेरा हर सुबह फ़िर बेमतलब सी चाहत भी वही

2

Pyar Bhari Umeed Shayari

  सालो बाद उनसे मिलने का समां केसा होगा, मैं याद भी हूँ उसे या वो भूल चूका होगा, इस जनम ना सही, मिलेंगे फिर किसी जनम में जैसे गुल से गुल मिले हो एक प्यार भरे चमन में

2

वो आयेगा ज़रूर वो उम्मीदें बाकी हैं

  अभी कुछ दूरियां तो कुछ फांसले बाकी हैं, पल-पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी है, हमें यकीन है कि कुछ ढूंढ़ता हुआ वो आयेगा ज़रूर अभी वो हौंसले और वो उम्मीदें बाकी हैं।

1

सबने साथ छोड़ दिया Alone Shayari

कदम कदम पे बहारों ने साथ छोड़ दिया, पड़ा जब वक़्त तब अपनों ने साथ छोड़ दिया, खायी थी कसम इन सितारों ने साथ देने की सुबह होते देखा तो इन सितारों ने साथ छोड़ दिया।

0

इंसान यहाँ बेमतलब जिए जाता है

ऐ खुदा बुला ले अब तो अपने पास मुझे, क्यों मुझसे तू और इम्तेहान लिए जाता है, अब किसी को जरुरत नहीं है जहाँ में मेरी ये इंसान यहाँ पर बेमतलब जिए जाता है.