0

मेरे सनम को हमसे इस कदर नफरत

हद ना थी उसकी मोहब्बत की मेरे खातिर,
आज उन्हें मोहब्बत के नाम से नफरत है,
क्या मंजर पेश आया होगा मेरे सनम के साथ,
के आज उन्हें हमसे इस कदर नफरत है…

कभी वो दूर जाने की बात से भी डरते थे
आज उन्हें हमारे करीब आने से नफरत है,
कभी याद करते थे तो खाना पीना भूल जाते थे,
आज उन्हें हमारी यादो से भी नफरत है….

क्या मंजर पेश आया होगा मेरे सनम के साथ,
के आज उन्हें हमसे इस कदर नफरत है…

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
5

Dard-E-Tanhai Shayari on Narazgi

किसी से नाराज़गी रखना गलत बात है
मगर ज़रा सोचो ये भी तो एक जज़्बात है

ज़िन्दगी के बारे में बस इतना जान लो तुम
ख़्वाबों से हक़ीक़त की यह मुलाकात है

किसी शायर की आँखों में देखो तो पता चले
तन्हा तन्हा ये दिन, तन्हा तन्हा ये रात है।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
2

Bematlab Ki Chahat Shayari

Bematlab Ki Chahat Shayari

दर्द भी वही और राहत भी वही,
मेरी मुश्किलें और, बुरी आदत भी वही
उसे भूलना हर सहर मक़सद है मेरा
हर सुबह फ़िर बेमतलब सी चाहत भी वही

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
2

Pyar Bhari Umeed Shayari

Pyar Bhari Umeed Shayari with Sad Girl Image

 

सालो बाद उनसे मिलने का समां केसा होगा,
मैं याद भी हूँ उसे या वो भूल चूका होगा,
इस जनम ना सही, मिलेंगे फिर किसी जनम में
जैसे गुल से गुल मिले हो एक प्यार भरे चमन में

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
1

Saccha Insaan Shayari

Sacha Insaan Shayari

ये जरुरी नहीं की इंसान दिखने में अच्छा हो
बहुत ही ख़ूबसूरत और सुन्दर हो
कमाई में ज्यादा और नामी हो
असल में वही इंसान अच्छा होता हैं
जो जरुरत पड़ने पे सदा आपके साथ हो

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
0

Haal E Dil Ki Shero Shayari on Ikraar E Mohabbat

Haal E Dil Ki Shero Shayari on Ikraar E Mohabbat

उनकी खामोश नज़रो ने उनका हाल ए दिल बयां कर दिया,
रुके हुए अल्फाज़ो को हमने उनकी मुस्कराहट में पड़ लिया
शरमा गए वो इस कदर अपनी इकरार ए मोहब्बत में,
लगकर सीने से मेरे उन्होंने अपना जहां मेरे नाम कर दिया !!

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
2

दिल से चाहा नहीं, एक तरफ़ा प्यार शायरी

एक तरफ़ा प्यार दुःख भरी शायरी

एक शख्स पास रह के समझा नहीं मुझे,
इस बात का मलाल है शिकवा नहीं मुझे,
मैं उस को बेवफाई का इलज़ाम कैसे दू
उसने तो दिल से ही चाहा नहीं मुझे !

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
1

लबों से दिल की बात

लबों से दिल की बात शायरी

अदा लबों से दिल की बात हो जाने दो,
कबूल आज दिल की इबादत हो जाने दो,
तनहा चल रहे हो दश्त ए जीस्त में
दो पल मुझको जरा साथ हो जाने दो !

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •