1

ज़िंदगी की ख़ुशी हो तुम

ज़िंदगी की ख़ुशी शायरी

उदास लम्हों की न कोई याद रखना,
तूफ़ान में भी वजूद अपना संभाल रखना,
किसी की ज़िंदगी की ख़ुशी हो तुम,
बस यही सोच तुम अपना ख्याल रखना।

One Comment

  1. मेरी आँखों से बहते अश्क भी अब सूखने लगे हैं,
    क्या बताये तुम्हे की किस कदर हम टूटने लगे हैं,
    जिंदगी में जो वजह थी मेरे मुस्कुराने की,
    आज वही वजह बनी हैं मेरे टूटकर बिखर जाने की

Leave a Reply

Your email address will not be published.