दिल से चाहा नहीं, एक तरफ़ा प्यार शायरी

2
1510

एक तरफ़ा प्यार दुःख भरी शायरी

एक शख्स पास रह के समझा नहीं मुझे,
इस बात का मलाल है शिकवा नहीं मुझे,
मैं उस को बेवफाई का इलज़ाम कैसे दू
उसने तो दिल से ही चाहा नहीं मुझे !

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here